AYE KHUDA Hindi Lyrics @Murder 2 :

AYE KHUDA Hindi Lyrics #Kshitij Carey, Saim Bhat, Mithoon @Murder 2

Song Credits:
Song: Aye Khuda;
Movie: Murder 2;
Lyricist: Mithoon;
Singer: Kshitij Carey, Saim Bhat, Mithoon;
Music Label: T-Series;

Hindi Lyrics:
कैसी खला ये दिल में बसी है
अब तो खताएँ फितरत ही सी है
मैं ही हूँ वो जो रहमत से गिरा
ऐ खुदा, गिर गया,
गिर गया
मैं जो तुझसे दूर हुआ
लुट गया, लुट गया
ऐ खुदा, गिर गया,
गिर गया
मैं जो तुझसे दूर हुआ
लुट गया, लुट गया

कैसी खला ये दिल में बसी है
अब तो खताएँ फितरत ही सी है
मैं ही हूँ वो जो रहमत से गिरा
ऐ खुदा, गिर गया,
गिर गया
मैं जो तुझसे दूर हुआ
लुट गया, लुट गया

ऐ खुदा, ऐ खुदा

इतनी ख़ताएँ तू ले कर चला है
दौलत ही जैसे तेरा अब खुदा
हर पल बिताए तू जैसे हवा है
गुनाह के साये में चलता रहा
समंदर सा बह कर तू चलता ही गया
मेरी मर्ज़ी पूरी की तूने हाँ हर दफ़ा
तू ही तेरा मुज़रिम बन्देया
ऐ खुदा, गिर गया
गिर गया
मैं जो तुझसे दूर हुआ
लुट गया, लुट गया

क्यूँ जुड़ता इस जहां से तू
इक दिन ये गुज़र ही जायेगा
कितना भी समेट ले यहाँ
मुठ्ठी से फिसल ही जायेगा

हर शख्स है धूल से बना
और फिर उसमें ही जा मिला
ये हकीकत है तू जान ले
क्यूँ सच से मुँह है फेरता

चाहे जो भी हसरत पूरी कर ले
रुकेगी ना फितरत ये समझ ले
मिट जायेगी तेरी हस्ती
बढ़ ना पायेगा ये दिल बन्देया
ऐ खुदा, गिर गया, गिर गया
मैं जो तुझसे दूर हुआ
लुट गया, लुट गया

गर तू सोचे तू है गिरा
मेरे हाथ को थाम उठ ज़रा
तेरे दिल के दर पे हूँ खड़ा
मुझको अपना ले तू ज़रा

तू कहे तू है साये से घिरा
तेरी राहों का मैं नूर हूँ
तेरे गुनहा को खुद पे ले लिया
मेरी नज़रों में बेक़सूर हूँ

ऐसा कोई मंज़र तू दिखला दे
मुझे कोई शख्स से मिलवा दे
ऐसा कोई दिल से तू सुनवा दे
के ज़ख़्म कोई उसे ना मिला
ऐ खुदा, गिर गया, गिर गया
मैं जो तुझसे दूर हुआ
लुट गया, लुट गया

English Lyrics:
kaisi khala yeh dil mein basi hai
ab toh khatayein fitrat hi si hai
main hi woh jo rehmat se gira
aye khuda, gir gaya, gir gaya
main jo tujhse door hua lut gaya lut gaya
aye khuda, gir gaya, gir gaya
main jo tujhse door hua lut gaya lut gaya

kaisi khala yeh dil mein basi hai
ab toh khatayein fitrat hi si hai
main hi wo jo rehmat se gira
aye khuda, gir gaya, gir gaya
main jo tujhse door hua
lut gaya lut gaya
aye khuda, gir gaya, gir gaya
main jo tujhse door hua
lut gaya lut gaya

kaisi khala yeh dil mein basi hai
ab toh khatayein fitrat hi si hai
main hi wo jo rehmat se gira
aye khuda, gir gaya, gir gaya
main jo tujhse door hua
lut gaya lut gaya

itni khatayein tu lekar chala hai
daulat hi jaise tera ab khuda
har pal bitaaye tu jaise hawa hai
gunhaa ke saaye mein chalta raha
samandar sa behkar tu chalta hi gaya
teri marzi puri ki tune haan har dafaa
tu hi tera mujrim bandeyaa
aye khuda, gir gaya, gir gaya
main jo tujhse door hua
lut gaya lut gaya

kyun judtaa is jahan se tu
ik din ye gujar hi jayega
kitna bhi samet le yahan
muthi se phisal hi jayega

har shaksh hai dhool se bana
aur phir usme hi jaa mila
ye haqiqat hai tu jaan le
kyun sach se mooh hai ferta

chahe jo bhi hasrat poori kar le
rukegi na fitrat ye samajh le
mit jayegi teri hasti
badh na payega ye dil bandeyaa
aye khuda, gir gaya, gir gaya
main jo tujhse door hua
lut gaya lut gaya

gar tu soche tu hai gira
mere haath ko thaam uth jara
tere dil ke dar pe hoon khada
mujhko apna le tu jara

tu kahe tu hai saaye se girha
teri rahon ka main noor hoon
tere gunhaa ko khud pe le liya
meri nazaron mein bekasoor hu

aisa koi manjar tu dikh la de
mujhe koi shaksh se milwa de
aisa koi dile se tu sunwa de
ke jakham koi use na mila

aye khuda, gir gaya, gir gaya
main jo tujhse door hua
lut gaya lut gaya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.