BANJAARA @Ek Villain:

BANJAARA Hindi Lyrics #Mohd. Irfan @Ek Villain

Song Credits:

Song: Banjaara;

Movie: Ek Villain;

Lyricist: Mithoon;

Singer: Mohd. Irfan;

Music Label: T-Series;

Hindi Lyrics:

जिसे ज़िन्दगी ढूंढ रही है

क्या ये वो मकाम मेरा है

यहाँ चैन से बस रुक जाऊं

क्यूं दिल ये मुझे कहता है

जज़्बात नये से मिले हैं

जाने क्या असर ये हुआ है

इक आस मिली फिर मुझको

जो क़ुबूल किसी ने किया है

किसी शायर की ग़ज़ल

जो दे रूह को सुकूं के पल

कोई मुझको यूँ मिला है

जैसे बंजारे को घर

नए मौसम की सहर

या सर्द में दोपहर

कोई मुझको यूँ मिला है

जैसे बंजारे को घर

जैसे कोई किनारा

देता हो सहारा

मुझे वो मिला किसी मोड़ पर

कोई रात का तारा

करता हो उजाला

वैसे ही रोशन करे वो शहर

दर्द मेरे वो भुला ही गया

कुछ ऐसा असर हुआ

जीना मुझे फिर से वो सीखा रहा

जैसे बारिश कर दे तर

या मरहम दर्द पर

कोई मुझको यूँ मिला है

जैसे बंजारे को घर

नए मौसम की सहर

या सर्द में दोपहर

कोई मुझको यूँ मिला है

जैसे बंजारे को घर

मुस्काता ये चेहरा

देता है जो पहरा

जाने छुपाता क्या दिल का समंदर

औरों को तो हरदम साया देता है

वो धूप में है खड़ा खुद मगर

चोट लगी है उसे फिर क्यूं

महसूस मुझे हो रहा

दिल तू बता दे क्या है इरादा तेरा

मैं परिंदा बेसबर

था उड़ा जो दरबदर

कोई मुझको यूँ मिला है

जैसे बंजारे को घर

नए मौसम की सहर

या सर्द में दोपहर

कोई मुझको यूँ मिला है

जैसे बंजारे को घर

जैसे बंजारे को घर

जैसे बंजारे को घर

English Lyrics:

jise zindagee dhoondh rahee hai
kya ye vo makaam mera hai
yahaan chain se bas ruk jaoon
kyoon dil ye mujhe kahata hai
jazbaat naye se mile hain
jaane kya asar ye hua hai
ik aas milee phir mujhko
jo qubool kisi ne kiya hai
kisi shaayar ki gazal
jo de rooh ko sukoon ke pal
koi mujhko yoon mila hai
jaise banjaare ko ghar

naye mausam ki sahar
ya sard mein dopahar
koi mujhko yoon mila hai
jaise banjaare ko ghar
jaise koi kinara
deta ho sahara
mujhe vo mila kisi mod par
koi raat ka taara
karta ho ujala
vaise hi roshan kare vo shahar
dard mere vo bhula hi gaya
kuchh aisa asar hua
jina mujhe phir se vo sikha raha
jaise baarish kar de tar
ya marham dard par
koi mujhko yoon mila hai
jaise banjaare ko ghar

muskaata ye chehara
deta hai jo pahara
jaane chhupaata kya dil ka samandar
auron ko to haradam saaya deta hai
vo dhoop mein hai khada khud magar
chot lagi hai use
phir kyoon mahasoos mujhe ho raha
dil tu bata de kya hai irada tera
main parinda besabar
tha uda jo darabadar
koi mujhko yoon mila hai
jaise banjaare ko ghar
naye mausam ki sehar
ya sard mein dopahar
koi mujhko yoon mila hai
jaise banjare ko ghar
jaise banjare ko ghar
jaise banjare ko ghar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.